aur phir se khil khilaayein!

आज बहुत दीनो बाद एक नज़्म… शब्दों को ढूंडती.. टटोलती.. रोज़ मर्राह के circus से परे… कयि बार “the pace of your life” starts to take over your “mindspace”… उसी mindspace के खाली कोनो से निकली.. धीरे धीरे ब्रेक लगाती एक आवाज़…

बहुत दिन से बस गुज़र से रहे हैं
इन ऊँची नीची टेढ़ी मेडी राहों से
मॅन मे एक विलोम
चिंतन की लकीरें
मुस्कुराहट छिपि हुई सी..
फूट पड़ने को बेताब… पर कैसे?
किस वजह से?

फिर चार दीवारी और नीला फर्श
घंटियों की मधम सी आवाज़
कुछ चलचित्र
कुछ किताबें
बहुत दिन बाद चाय की वो प्याली (बस एक)
और उसके साथ butter toast
होंटो पर एक नन्ही सी मुस्कान

तितरा बितरा सा घर
चारों तरफ कपड़े..
“viscious cycle of laundry” मे समाई हुई सी ज़िंदगी
निशब्द सा नज़मों का बस्ता.. अधखुला
जूते
काग़ज़
शॉर्टकट का खाना
और एक कोने मे एक सफेद जर्बेरा
प्लास्टिक की बोतल मे क़ैद.. उस फूल की मुस्कान

fridge
कुछ भरा..
काफ़ी खाली
लिस्ट.. बनानी पड़ती है कभी कभी
एक अधूरी पैंटिंग
पंखे की आवाज़
रानी कलर वाली रज़ाई..
उससे निकलने को ना तैयार
हम (और हमारी मुस्कान)

शाम की चाय
आज पकोडे बनाएँगे
रात मे टाकीज़ जाकर पिक्चर
और बीच मे फिर किताबें
diary
और सफाई.. (शायद)
ख्वाबों को समेटती
दिन को बसर करती
नये अल्फ़ाज़ खोजती
आँखों मे चमक वाली मुस्कान..!

——————————————————-

bahut din se bas guzar se rahe hain
in oonchi neechi tedhi medhi raahon se
mann me ek vilom
chintan ki lakeerein
muskurahat chhipi hui si..
phoot padne ko betaab… par kaise?
kis vajah se?

fir chaar deewaari aur neela farsh
ghantiyon ki madham si awaaz
kuch chalchitra
kuch kitaabein
bahut din baad chai ki vo pyaali (bas ek)
aur uske saath butter toast
hoton par ek nanhi si muskaan

titara bitra sa ghar
chaaron taraf kapde..
“viscious cycle of laundry” me samayi hui si zindagi
nishabd sa nazmon ka basta.. adhkhula
joote
kaagaz
shortcut ka khana
aur ek kone me ek safed gerbera
plastic ki botal me kaid.. us phool ki muskaan

fridge
kuch bhara..
kaafi khaali
list.. banaani padti hai kabhi kabhi
ek adhoori painting
pankhe ki awaaz
rani color wali rajai..
usse nikalne ko na tayaar
hum (aur hamari muskaan)

shaam ki chai…
aaj pakode banayenge
raat me talkies jaakar picture
aur beech me fir kitaabein
diary..
aur safai.. (shayad)
khwaabon ko samet ti
din ko basar karti
naye alfaaz khojti
aankhon me chamak wali muskaan..!

Advertisements