roz marrah..

और खिड़की पर वो धूप लहराई
कहीं पास से उठ कर आई शहनाई
पर्दों पे बने पत्तों से छन के आई धूप
(शहर की सड़कों मे ऐसे ही मिलते हैं पत्ते.. खिड़की पर टाँगे पर्दों मे..)
उजाले की रोशनी
सुबह की खुश्बू

और फिर..
ख्वाबों का वो आसमान
टकटकी लगाती वो ज़मीन
इसका आलोम विलोम करते हम
इस ज़िंदगी के सपनो को
धूप की तरह समेटे और फैलाए भी हम..

conundrum

Venus in the evening sky

A twinkling airplane light

A starlight shone oh so bright

She takes in the trinity

and the evening sky quietly

She ponders the equilibrium

the thin red lines

The conundrum of dim light

The mayhem at twilight..

She dances to the song of Siva

Mayhem as day breaks to dawn

Twittering symphonies as they surround

Oh Venus how far how long

Engulf me in the shadows

of your slow twirling song!

 

(inspired in a moment of parking the car and staring at a moonless sky… contributed to in various words and lines by Shon Roy)